भारत में जैविक खेती का एक लंबा और समृद्ध इतिहास है।इस लेख में हम भारत में बढ़ते जैविक खेती के चलन के बारें में बात करेंगे

जैविक खेती एक ऐसी खेती प्रणाली है जो प्राकृतिक तरीकों का उपयोग करके पौधों को उगाने के लिए की जाती है। यह रासायनिक उर्वरकों, कीटनाशकों और अन्य कृत्रिम रसायनों का उपयोग नहीं करता है। जैविक खेती पर्यावरण के अनुकूल है और यह पौधों और मिट्टी के स्वास्थ्य के लिए बेहतर है।

भारत में जैविक खेती का एक लंबा और समृद्ध इतिहास है। प्राचीन भारत में, किसान प्राकृतिक तरीकों का उपयोग करके फसलों को उगाते थे। वे जैविक खाद का उपयोग करते थे और कीटों और बीमारियों के लिए जैविक नियंत्रण उपाय करते थे।

आजकल, जैविक खेती भारत में तेजी से लोकप्रिय हो रही है। यह कई कारणों से है, जिसमें शामिल हैं:

बढ़ती जागरूकता पर्यावरणीय मुद्दों के बारे में:

लोगों में अब पर्यावरणीय मुद्दों के बारे में अधिक जागरूक बढ़ गई है, और वे ऐसे उत्पादों का चयन करना चाहते हैं जो पर्यावरण के अनुकूल हों. जैविक खेती पर्यावरण के अनुकूल है क्योंकि यह रासायनिक उर्वरकों और कीटनाशकों का उपयोग नहीं करती है, जो प्रदूषण का कारण बन सकते हैं.

स्वस्थ और पौष्टिक भोजन के लिए बढ़ती मांग:

लोग अब स्वस्थ और पौष्टिक भोजन के बारे में अधिक जागरूक हो गए हैं, और वे ऐसे उत्पादों का चयन करना चाहते हैं जो स्वस्थ हों. जैविक खेती स्वस्थ है क्योंकि यह पौधों को उगाने के लिए प्राकृतिक तरीकों का उपयोग करती है, जो पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं.

सरकार द्वारा जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए नीतियों को अपनाना:

भारत सरकार जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए कई नीतियों को अपना रही है. इन नीतियों में जैविक खेती करने वाले किसानों को सब्सिडी देना, जैविक खेती के लिए अनुसंधान और विकास को बढ़ावा देना और जैविक खेती के लिए बाजार उपलब्ध कराना शामिल है.

जैविक खेती भारत में एक फलते-फूलते उद्योग है। कई किसान अब जैविक खेती कर रहे हैं और वे अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं। जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए सरकार भी कई कार्यक्रम चला रही है।

यदि आप भारत में जैविक खेती शुरू करना चाहते हैं, तो यहां कुछ बातों को ध्यान में रखना चाहिए:

एक अच्छी जगह का चयन करें। जैविक खेती के लिए मिट्टी और जलवायु अच्छी होनी चाहिए।

सही पौधों का चयन करें। जैविक खेती के लिए कुछ पौधे बेहतर होते हैं।

जैविक खाद का उपयोग करें। जैविक खाद पौधों के लिए पोषक तत्व प्रदान करता है और मिट्टी की गुणवत्ता में सुधार करता है।

कीटों और बीमारियों के जैविक नियंत्रण उपाय करें। जैविक खेती में कीटनाशकों और अन्य कृत्रिम रसायनों का उपयोग नहीं किया जाता है।

अपने खेत की देखभाल करें। जैविक खेत को साफ और स्वस्थ रखना चाहिए।

जैविक खेती एक बढ़िया विकल्प है अगर आप एक स्वस्थ और पौष्टिक भोजन चाहते हैं। यह पर्यावरण के अनुकूल है और यह मिट्टी और जलवायु को भी बचाता है। तो आज ही जैविक खेती शुरू करें!

यहां कुछ अतिरिक्त टिप्स हैं जो आपको जैविक खेती में सफल होने में मदद करेंगी:

स्थानीय जलवायु और मिट्टी के प्रकार के आधार पर पौधों का चयन करें।

जैविक खाद का उपयोग करें और कीटनाशकों और उर्वरकों से बचें।

उचित पानी और सिंचाई व्यवस्था का प्रबंधन करें।

अपनी फसलों की नियमित रूप से निगरानी करें और कीटों और बीमारियों से बचाव करें।

जैविक खेती के लिए सरकार द्वारा दी जाने वाली सब्सिडी का लाभ उठाएं।

जैविक खेती एक फलते-फूलते उद्योग है और भारत में तेजी से लोकप्रिय हो रही है। यह एक बढ़िया विकल्प है अगर आप एक स्वस्थ और पौष्टिक भोजन चाहते हैं। तो आज ही जैविक खेती शुरू करें!

Updated on :


यह भी पढ़ें



प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *